चीनी उत्पादों के प्रचार के लिए इतनी मोटी फीस लेते हैं ये बॉलीवुड स्टार्स और क्रिकेटर, सीएआईटी (CAIT) ने जारी की खास अपील

भारतीय सिनेमा के कलाकारों दीपिका पादुकोण, विक्की कौशल, रणबीर कपूर, कैटरीना कैफ, आमिर खान, रणवीर सिंह आदि से अखिल भारतीय व्यापारी संघ (CAIT) ने चीन में बने सामानों का प्रचार न करने की अपील की है। संघ के जनरल सेक्रेटरी प्रवीण खंडेलवाल ने कहा है कि भारतीय सिनेमा के शीर्ष कलाकार अगर चाइनीज उत्पादों का प्रचार करने का बहिष्कार कर देते हैं तो ये मौजूदा स्थिति को हल करने में बहुत सहायक हो सकता है। इसके साथ ही व्यापारी संघ ने अपनी इस मुहिम में अमिताभ बच्चन, अक्षय कुमार, शिल्पा शेट्टी, माधुरी दीक्षित, महेंद्र सिंह धोनी, सचिन तेंदुलकर और सोनू सूद जैसे बड़े कलाकारों का साथ भी मांगा है।

संघ के मुताबिक चाइनीज उत्पादों का प्रचार करने वाले भारतीय सिनेमा के कलाकारों की सूची भी काफी लंबी है। आमिर खान और सारा अली खान वीवो मोबाइल फोन का प्रचार करते हैं, वहीं विराट कोहली को भी आईक्यूओओ स्मार्टफोन का प्रचार करते हुए देखा जाता है। जहां दीपिका पादुकोण, सिद्धार्थ मल्होत्रा, कैटरीना कैफ, रैपर बादशाह और रणबीर कपूर ओप्पो कंपनी का प्रचार करते हैं, वहीं रणवीर सिंह शाओमी का बाजार बढ़ाते दिखते हैं। सलमान खान, श्रद्धा कपूर और आयुष्मान खुराना जैसे बड़े कलाकार रियलमी का प्रचार भी दिल खोलकर करते हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक आमिर खान वीवो के हर एक नए विज्ञापन के लिए लगभग 12 करोड़ रुपये लेते हैं। रियलमी फोन का प्रचार करने के लिए सलमान खान 6-7 करोड़ रुपये तक चार्ज करते हैं। वहीं, शाओमी के फोन का प्रचार करने के लिए रणवीर सिंह भी लगभग 5 करोड़ रुपये तक कमाते हैं। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली भी इनसे पीछे नहीं हैं, वह भी आईक्यूओओ स्मार्टफोन के प्रचार के लिए 5 करोड़ रुपये तक चार्ज करते हैं। दीपिका पादुकोण भी एक विज्ञापन के लिए 6-7 करोड़ रुपये तक लेती हैं।

भले ही यह कलाकार मात्र विज्ञापन करने का ही चीनी कंपनियों से इतना पैसा लेते हैं लेकिन चीनी उत्पादों का प्रचार कर अपने प्रशंसकों को प्रभावित करने में इन कलाकारों का बड़ा रोल रहता है। यह सच है कि चीनी उत्पादों के प्रचार करने से ही इनके प्रशंसक बहुत प्रभावित होते हैं। इसी वजह से चीनी कंपनियां भी इन कलाकारों को इतनी मोटी रकम चुकाने से पीछे नहीं हटतीं।

भारत-चीन कारोबार

सीमा पर भारत और चीन की सेना के बीच बढ़ते तनाव को ध्यान में रखते हुए अखिल भारतीय व्यापारी संघ (CAIT) ने महाराष्ट्र सरकार से चीनी कंपनियों को दिए सभी ठेकों को रद्द करने की गुजारिश की है। साथ ही संघ ने फिल्मी कलाकारों से भी कहा है कि कोई भी कलाकार किसी भी चीनी उत्पाद का प्रचार भारत में ना करे। गौरतलब है कि भारत चीन सीमा पर सेना के बीच हुई झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद होने पर व्यापारी संघ बहुत नाराज है और पूरे देश से चाइनीज उत्पादों का बहिष्कार करने का अनुरोध कर रहा है। इस बीच महाराष्ट्र सरकार ने भी तीन चाइनीज कंपनियों के साथ प्रस्तावित नए समझौते की प्रक्रिया रद्द कर दी है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.