महेश भट्ट ने महिलाओं के शो’षण मामले में जारी किया बयान, लिखा- ‘तीन बेटियों का पिता हूं’

इन दिनों फिल्म निर्देशक और निर्माता महेश भट्ट का नाम खूब विवा’दों में है। एक तरफ जहां सुशांत सिंह राजपूत केस में उनका नाम लिया जा रहा है, तो वहीं दूसरी ओर इसके साथ ही महेश भट्ट पर आरोप है कि वो एक ऐसी निजी कंपनी का प्रचार कर रहे हैं जिसपर महिलाओं के शो’षण का केस चल रहा है। इस मामले में भट्ट को महिला आयोग की तरफ नोटिस भेजा गया, जिसपर अब उन्होंने जवाब दाखिल किया है। महिला आयोग ने इस जवाब को ट्विटर पर शेयर किया है। अपने जवाब में महेश भट्ट ने कहा कि उनके नाम और तस्वीर का ग़लत इस्तेमाल किया गया है।

दरअसल आईएमजी वेंचर्स नाम की कंपनी ने अपने इवेंट ‘मिस्टर ऐंड मिस ग्लैमर 2020’ में महेश भट्ट सहित उर्वशी रौतेला, ईशा गुप्ता, रणविजय सिंह, मौनी रॉय और प्रिंस नरूला का नाम इस्तेमाल किया। अब महिला आयोग इस कंपनी पर लगे आरोपों की जांच कर रहा है। इसी के चलते महेश भट्ट सहित इन सभी सेलेब्स को महिला आयोग की तरफ से नोटिस भेजा गया था।

महेश भट्ट और उनके होम प्रोडक्शन विशेष फिल्म्स ने तरफ से एक बयान जारी किया गया है। इसमें कहा गया है कि महेश भट्ट का आईएमजी वेंचर्स कंपनी के साथ कोई लेना-देना नहीं है। उनका नाम बिना सहमति के कंपनी ने इस्तेमाल किया।

आधिकारिक बयान में महेश भट्ट ने लिखा है, ‘मैं राष्ट्रीय महिला आयोग को सलाम करता हूं। मैं महिला आयोग का आभारी हूं। मैं आज अपने ऊपर लगे आरोपों के संदर्भ में आयोग के सामने हाजिर हुआ। आईएमजी वेंचर्स ने नवंबर 2020 में अपने प्रमोशनल इवेंट मिस्टर और मिसेज ग्लैमर, 2020 में मेरा नाम का इस्तेमाल किया और मुझे अमंत्रण दिया कि मैं इवेंट का हिस्सा बनूं।’

महेश भट्ट ने आगे लिखा है, ‘मैं आयोग की चेयरपर्सन को स्पष्ट करना चाहता हूं कि मुझे इस इवेंट में मुख्य अतिथि के तौर पर अमंत्रित किया गया था लेकिन मैंने कोरोना वायरस (कोविड-19) की वजह से इसके लिए मना कर दिया था। इस इवेंट के लिए मैंने किसी भी प्रकार का कोई एग्रीमेंट या कॉन्ट्रेक्ट साइन नहीं किया था। लेकिन कंपनी ने मेरी सहमति के बिना सोशल मीडिया से मेरी फोटो लेकर मेरे नाम का इस्तेमाल किया। जब मैंने इस बारे में उनसे पूछा तो उन्होंने इसके लिए मुझसे माफी मांगी इसके बाद मेरी तस्वीर और नाम को हर जगह से हटा दिया गया।’ इसके साथ ही महेश भट्ट ने लिखा है कि आईएमजी वेंचर्स के सनी वर्मा से और मिस्टर एंड मिसेज ग्लैमर 2020 से मेरा कोई भी वास्ता नहीं है। मेरे नाम का इस्तेमाल इसलिए किया गया ताकि उनके इवेंट में ज्यादा से ज्यादा लोग शामिल हो सकें। उन्होंने कहा, ’71 वर्ष की उम्र में मैं ज्ञान को साझा करने और सामाजिक कामों में योगदान करने में विश्वास रखता हूं। तीन बेटियों का पिता हूं और इस धर्मयुद्ध में पूरे सहयोग के लिए तैयार हूं।’

महिला आयोग ने जानकारी दी कि मंगलवार 18 अगस्त को ऑनलाइन सुनवाई के ज़रिए सभी के बयान दर्ज़ किए गए हैं। हालांकि उर्वशी रौतेला और मौनी रॉय ने कई बार सूचित करने के बावजूद सुनवाई अटेंड नहीं की।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *