राज कुंद्रा केस: एड ल्ट फिल्मों से हर दिन 8 लाख तक कमाते थे शिल्पा शेट्टी के पति, ऐसे चलाते थे ये गोरखधंधा

बॉलीवुड एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी के बिजनेसमैन पति राज कुंद्रा को अ श्ली ल वीडियो बनाकर पैसा कमाने के आरोप में 23 जुलाई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। मुंबई पुलिस का कहना है कि एड ल्ट फिल्मों को बनाकर और उन्हें ऐप्स के जरिए पब्लिश कर राज कुंद्रा लाखों-करोड़ों की कमाई करते थे। बुधवार रात पुलिस ने राज कुंद्रा के मुंबई स्थित विआन इंडस्ट्रीज लिमिटेड के ऑफिस और कुछ अन्य ठिकानों पर छापामारी की। खबरों की मानें तो इस दौरान पुलिस ने ऑफिस के कुछ कम्प्यूटर हार्ड डिस्क और सर्वर को सीज किया है। पुलिस ने राज कुंद्रा का एक आईफोन और लैपटॉप भी जब्त किया गया है, जांच के बाद चौंकाने वाले खुलासे हो सकते हैं।

बता दें कि फरवरी 2021 में राज कुंद्रा के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई गई थी। गौरतलब है कि मुंबई पुलिस ने फरवरी में उमेश कामत को इस तरह के वीडियो रैकेट चलाने के मामले में गिरफ्तार किया था। उनके जरिए ही राज कुंद्रा का नाम सामने आया। राज कुंद्रा ने ये काम लॉकडाउन के दौरान शुरू किया था। मॉडल्स को फिल्म और वेबसीरीज में काम देने के बहाने बंगले पर बुलाया जाता था और ऑडिशन के नाम पर ऐसी फिल्में शूट करने को कहा जाता था। पुलिस ने इस बात का खुलासा किया है कि राज इन फिल्मों के जरिए हर दिन करीब 6-8 लाख की कमाई करते थे।

राज के सहयोगियों के अकाउंट को सीज कर लिया गया है। पूछताछ में राज ने बताया है कि फरवरी 2019 में उन्होंने आर्म्स प्राइम मीडिया लिमिटेड नाम की एक कंपनी बनाई थी और हॉटशॉट्स नाम के एप को डेवलप किया था। हॉटशॉट्स पर पेड सब्सक्राइबर्स के जरिए होनेवाली कमाई को एप की मेनटेंनेस के नाम पर दिखाया जाता था। ये इनके काम करने का तरीका था। हॉटशॉट्स एप के मेनटेनेंस के लिए विआन ने टाइ-अप किया था। इसी मेनटेनेंस के लिए लाखों रुपये का ट्रांजेक्शन विआन कंपनी के 13 बैंक अकाउंट्स में होता था, इस तरह कुछ कंपनियों में घुमाने के बाद ये पैसा राज के अकाउंट में आता था।

सूचना मिलने पर मुंबई पुलिस ने मड गांव में एक किराए के आलीशान बंगले में ऐसी ही फिल्म की चल रही शूटिंग के दौरान छापा मारा। टीम ने मौके पर चल रही एक वीडियो शूटिंग देख ही राज कुंद्रा को अरेस्ट किया था। मामले में शिल्पा शेट्टी से भी पूछताछ हो सकती है। राज कुंद्रा के बहनोई प्रदीप बक्षी के खिलाफ भी लुकआउट नोटिस जारी हुआ है। प्रदीप बक्षी ‘हॉटशॉट’ मोबाइल एप का निर्माण करने वाली केनरीन कंपनी के को-ओनर हैं और प्रदीप बक्षी को इस मामले में सह अभियुक्त बनाया गया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *