सोनू सूद ने लोगों की मदद के लिए प्रॉपर्टी गिरवी रखकर लिया 10 करोड़ का लोन?

सोनू सूद बॉलीवुड के उन कलाकारों में से एक हैं जो परेशान, गरीब और जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। कोरोना के दौर में अभिनेता सोनू सूद जरूरतमंदों के लिए मसीहा बनकर सामने आए और उन्होंने प्रभावित लोगों की हर संभव मदद की। लॉकडाउन के दौरान उन्होंने प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने से लेकर हजारों लोगों को पैसे और खाने से लेकर कई जरूरत की चीजें पहुंचाईं। वे नेकी के इस काम में कोई कमी नहीं छोड़ना चाहते। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, लोगों की मदद के लिए उन्होंने 10 करोड़ रुपए का लोन लेने के लिए अपनी आठ प्रॉपर्टी गिरवी रख दी हैं। खबरों की मानें तो मुंबई के जुहू इलाके में मौजूद इन संपत्तियों में दो दुकानें और छह फ्लैट्स शामिल हैं।

मनीकंट्रोल.कॉम की रिपोर्ट के अनुसार, सोनू ने दो दुकानें और छह फ्लैट्स गिरवी रखे हैं। इन प्रॉपर्टीज के मालिक सोनू और उनकी पत्नी सोनाली हैं। सोनू की गिरवी रखी गईं प्रॉपर्टीज का एग्रीमेंट 15 सितंबर को साइन किया था और 24 नवंबर को इसका रजिस्ट्रेशन किया गया। ये प्रॉपर्टी इस्कॉन मंदिर के पास एबी नायर रोड पर हैं। बताया जा रहा है कि प्रॉपर्टी सोनू और उनकी पत्नी के नाम पर ही रहेंगी। इससे हर महीने आने वाला किराया भी अभिनेता को ही मिलेगा। सोनू को 10 करोड़ के लोन के लिए इसका मूलधन और ब्याज चुकाना पड़ेगा। सोनू ने 10 करोड़ रुपये के लोन लेने के लिए पांच लाख रुपए की रजिस्ट्रेशन फीस चुकाई गई है। लेकिन अभिनेता सोनू सूद की ओर से इस खबर पर अब तक कोई पुष्टी नहीं मिल पाई है।

लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंदों की मदद के लिए सक्रिय रहे सोनू ने सैकड़ों प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाया। हजारों लोगों के लिए खाने, पीने के सामान से लेकर पैसों तक की व्यवस्था की। पंजाब में पैरामेडिकल स्टाफ के लिए 1500 PPE किट्स उपलब्ध कराईं। पुलिस अफसरों को 25 हजार फेस शील्ड्स लेकर दीं।

इस तरह लॉकडाउन के दौरान उन्होंने कई काम किए। अब भी वे लगातार जरूरतमंदों की मदद कर रहे हैं। सोशल मीडिया के जरिए लोग सोनू से मदद मांगते रहते हैं। इसके अलावा, सोनू ने हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है। सोनू सूद का अगला मिशन बुजुर्गों के घुटनों की सर्जरी कराना है। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था, ‘मैं बुजुर्गों के घुटनों की सर्जरी कराना चाहता हूं ताकि उन्हें यह महसूस न हो कि वे समाज का बेकार और उपेक्षित हिस्सा हैं।’

Leave a Comment

Your email address will not be published.